skdarpannews

ASHALI SURAT DIKHATA

अंतराष्ट्रीय महिला दिवस को झूलेलाल वाटिका में 5 हजार महिलाएं करेगी सुन्दरकांड पाठ, बनेगा रिकार्ड

अंतराष्ट्रीय महिला दिवस को झूलेलाल वाटिका में 5 हजार महिलाएं करेगी सुन्दरकांड पाठ, बनेगा रिकार्ड

अंतराष्ट्रीय महिला दिवस को झूलेलाल वाटिका में 5 हजार महिलाएं करेगी सुन्दरकांड पाठ,बनेगा रिकार्ड

लखनऊ मे आज ईश्वरीय स्वपनाशीष सेवा समिति की ओर से सत्य सनातन नारी शक्ति लक्ष्मणपुरी की महिलाए आगामीअंतराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर लखनऊ के झूलेलाल वाटिका मे पांच हजार महिलाओं के साथ भव्य सुन्दरकांड का पाठ कर रिकार्ड बनाने जा रही है। जिसको लेकर आज को अपनी  मासिक संगोष्ठी के साथ ही प्रेसवार्ता का आयोजन किया। मिडिया को सम्बोधित करते हुए सनातन ध्वजवाहिका एवं श्री परमानंद हरि हर मंदिर की संस्थापिका सपना गोयल ने कहा कि देवो द्वारा निर्मित भारत वर्ष को अपनी आध्यात्मिक पहचान दिलाने हेतु सनातन धर्म की रक्षा एवं लखनऊ को लक्ष्मणपुरी की पहचान व पूरे विश्व में सनातन धर्म के प्रति जागरूकता लाने के उद्देश्य से वह हर मंगलवार को हर स्थानिय मंदिर पर सुन्दरकांड पाठ की मुहीम चलाई जा रही है, जिसमें लक्ष्मणपुरी की महिलाए सुन्दरकांड का पाठ कर लोगो को जागरूक कर ही है। सपना गोयल के मुताबिक उनकी इस मुहीम के तहत प्रदेश के विभिन्न जिलों के तमाम मंदिरो पर सुन्दरकांड का पाठ होना शुरू हो गया है, वह अपनी इस मुहीम को विदेशो तक ले जा रही है। जिसमें वह विदेशों में भी इसी मुहीम के तहत सुन्दरकांड का पाठ कर विदेश में भी सनातन का परचम लहराएंगी।इस मौके पर सनातन ध्वजवाहिका एवं श्री परमानंद हरि हर मंदिर की संस्थापिका सपना गोयल के साथ 51 शक्तिपीठ महिलाए मौजूद रही, जो भिन्न भिन्न क्षेत्रों में अलग अलग मंदिरो पर प्रत्येक मंगलवार को सुन्दरकांड का पाठ करा रही है। उन्होने कहा कि आगामी दस मार्च को होने वाले भव्य सुन्दरकांड पाठ मे जो भी महिलाए हमारी इस मुहीम में शामिल होना चाहती है वह इन नंबरो पर 8707808707 व 91614 46789    सम्पर्क कर सकती है। वहीं इस मौके पर उन्होने सभी से अपील करते हुए कहा कि सभी लोग अपने अपने आस पास के स्थानिय मंदिरो पर हर मंगलवार को सुन्दरकांड का पाठ जरूर करें, जिससे लोगो में सनातन धर्म के प्रति जागरूकता लाई जा सके। इस मौके पर सनातन ध्वजवाहिका एवं श्री परमानंद हरि हर मंदिर की संस्थापिका सपना गोयल के साथ 51 शक्तिपीठ महिलाए मौजूद रही, जो भिन्न भिन्न क्षेत्रों में अलग अलग मंदिरो पर प्रत्येक मंगलवार को सुन्दरकांड का पाठ करा रही है।